बाजार पूंजीकरण बनाम इक्विटी क्या अंतर है?|बाजार पूंजी और शेयर पूंजी में क्या अंतर है?

Spread the love

5/5 - (1 vote)
1. बाजार पूंजीकरण बनाम शेयर/भागीदारी क्या अंतर है|What is Market Captilization And Weighted Average?|बाजार पूंजीकरण और भारित औसत क्या है?
जैसे:- हमने देखा कि “सेंसेक्स” और “निफ्टी” में हम लोग शेयर बना रहे थे| तो काई राइट अथॉरिटी में हमें कंपनी सेलेक्ट करना थीटो कॉमनी को सेलेक्ट करने का अधिकार देते हैं: पहला मानदंड कि हम कंपनी के मार्केट कैप्टिलाइजेशन को धारण करते हैं और दुशरा कंपनी के वेटेड एवरेज को समझते हैं जैसे हमारे पास काई अथॉरिटी अथॉरिटी के सेक्टर हैं: एनर्जी, इंडस्ट्रियल, कंज्यूमर ड्यूरेबल्स, रियल टेक्सट, फाइनेंशियल्स, आईटी, टेलीकम्यूनिकेशन सर्विस, यूटिलिटीज, मैटेरियल तो सा सेक्टर को कितना प्रतिशत का संकेत देता है|
i) भारित औसत क्या है?|भारित औसत क्या है?
Note:- वेटेड देने का मतलब कितना प्रतिशत हिसा हम “निफ्टी” या “सेंसेक्स” के अंदर काई सेक्टर की कंपनी को रखते हैं तो किस प्रकार की कंपनी को कितना प्रतिशत हिसा दे| “निफ्टी” या “सेंसेक्स” के अंदर या कोई भी गठजोड़ बनता है उस समय किस कंपनी को कितने प्रतिशत किसा दे उसे “वेटेड एवरेज” कहते हैं|
ii) बाजार पूंजीकरण क्या है?|बाजार पूंजीकरण क्या है?
नोट:- उदाहरण के माध्यम से हम लोगों ने “MRF” और “TCS” (टाटा कंसल्टेंसी सप्तह) के स्टॉक से हमलोग सांझेगे प्राधिकरण के “मार्केट कैपटिलाइजेशन” को तो हम लोग दोनों प्राधिकरण के शेयर की वर्तमान बाजार कीमत देखने पर आ रही है ” MRF “के शेयर की कीमत 84,050.00 INR है और “TCS” के शेयर की कीमत 3,204.00 INR है तो आप बताएं कि दोनों में से कौन सी कंपनी बड़ी है|‌ 
अगर हम डायरेक्ट कंपनी के शेयर को देखें तो शेयर की कीमत को देखे के ऊपर तो टीसीएस और एम टैग कंपनी के शेयर को देखें तो उनमें बहुत अधिक अंतर है| आपको देखकर लगेगा कि Mrf के शेयर की कीमत 84,050.00 INR है तो “MRF” TCS से बहुत बड़ी कंपनी है तो अगर हमें पता है कि कोन सी कंपनी है|”MRF”या बड़ी “TCS” तो हम दोनो कॉमनी का मार्केट काओ निकलन पडेगा तो जैसे हमलोग “म्यूचुअल फंड” में देखते हैं कि कौनसी कंपनी है:- स्मॉल कैप है, एमडी कैप है या लार्ज कैप है| तो वही कॉन्सेप्ट के हमलोग यहां पर जाने वाले हैं तो इस कॉन्सेप्ट को हम लोग एक “फॉर्मूला” की मदद से समझेंगे|
iii)किसी भी कंपनी के पूंजीकरण की गणना करने का सूत्र क्या है?
तो “मार्केट कैपिटलाइजेशन” का फॉर्मूला यह बता रहा है कि आउटस्टैंडिंग शेयर की कुल संख्या [इसका मतलब कितना शेयर लोगो के पास है।] अगर हम इसे मल्टीप्लाई कर देंगे, तो शेयर की कीमत से कर्ज का आकार नीलाकल हो जाएगा।
तो हमलोग देखे तो कंपनी की शेयर कीमत 30 है फिर भी यह कंपनी बड़ी निकली के आई तो कंपनी “एबीसी” और कंपनी “एक्सवाई जुन” में बड़ी कॉमनी है “एक्सवाई जुना” तो हम लोग अपने मूल प्रश्न पर आते हैं कि “एमारेफ स्टेक” और “टीसीएस ” “मैं से कोन सी कंपनी बड़ी है तो हमलोगो ने कंपनी का मार्केट कैप्टिलाइजेशन को निकाला तो हमारा कंपनी का मार्केट कैप्टिलाइजेशन निकला जिश्मे से” एमारेफ शेयरों का 35,645.62 करोड़ रुपये और “टीसीएस” का 11.72 लाख करोड़ रुपये है तो बांबे से कंपनी “टीसीएस” “जो हमारी बड़ी कंपनी है| तो अगर हम देखें तो “MRF” की शेयर की कीमत है 84,050.00 INR जोकी “TCS” की शेयर की कीमत 3,204.00 INR है जोकी “MRF” के शेयर की कीमत से बहुत कम है जिस कर्ण से हमें लगता है कि “MRF” बड़ी कंपनी है|

 तो जो मार्केट कैप्टिलाइजेशन है जो हमें शामिल करता है कि कंपनी कितनी बड़ी है ” 72 लाख करोड़ रुपये की कंपनी है तो “TCS”, “MRF” कंपनी का आकार या मार्केट कैप्टिज़ेशन में काफी बड़ा है, तो कॉमनी के शेयर की कीमत में लगातार बदलाव रहता है डेली बेसिस पे, तो अगर हमलोग फॉर्मूला देखें कि हमें करें शेयर की कीमत एक वेरिएबल के तरह मिल रही है| तो उसके प्रभाव मार्केट कैप्टिलाइजेशन पे भी मिलते हैं तो मार्केट कैप्टिलाइजेशन कम-ज्यादा होता रहता है कंपनी “टीसीएस” के शेयर की कीमत के आधार पर आज जो कंपनी “टीसीएस” 11.72 लाख करोड़ रुपये है, जो आने वाले दिनों में वह 12 लाख, 13 लाख करोड़ की हो जाएगी | अगर उसके शेयर की कीमत आला कि और जाए तो वह 10 लाख करोड़ की सांझी हो सकती है तो यहां पर महत्वपूर्ण है कंपनी की शेयर कीमत से हम लोगों को या पता चला की कंपनी की शेयर कीमत से हम लोग कंपनी की मार्केट कैप्टिलाइजेशन को जज नहीं कर सकते| 72 लाख करोड़ रुपये की कंपनी है तो “TCS”, “MRF” कंपनी का आकार या मार्केट कैप्टिज़ेशन में काफी बड़ा है, तो कॉमनी के शेयर की कीमत में लगातार बदलाव रहता है डेली बेसिस पे, तो अगर हमलोग फॉर्मूला देखें कि हमें करें शेयर की कीमत एक वेरिएबल के तरह मिल रही है| तो उसके प्रभाव मार्केट कैप्टिलाइजेशन पे भी मिलते हैं तो मार्केट कैप्टिलाइजेशन कम-ज्यादा होता रहता है कंपनी “टीसीएस” के शेयर की कीमत के आधार पर आज जो कंपनी “टीसीएस” 11.72 लाख करोड़ रुपये है, जो आने वाले दिनों में वह 12 लाख, 13 लाख करोड़ की हो जाएगी | अगर उसके शेयर की कीमत आला कि और जाए तो वह 10 लाख करोड़ की सांझी हो सकती है तो यहां पर महत्वपूर्ण है कंपनी की शेयर कीमत से हम लोगों को या पता चला की कंपनी की शेयर कीमत से हम लोग कंपनी की मार्केट कैप्टिलाइजेशन को जज नहीं कर सकते| कंपनी का आकार या बाज़ार कैप्टिज़ेशन में काफी बड़ा है, तो कॉमनी के शेयर की कीमत में लगातार बदलाव रहता है डेली बेसिस पे, तो अगर हमलोग फॉर्मूला देखें कि हमें करें शेयर की कीमत एक वेरिएबल के तरह मिल रही है| तो उसके प्रभाव मार्केट कैप्टिलाइजेशन पे भी मिलते हैं तो मार्केट कैप्टिलाइजेशन कम-ज्यादा होता रहता है कंपनी “टीसीएस” के शेयर की कीमत के आधार पर आज जो कंपनी “टीसीएस” 11.72 लाख करोड़ रुपये है, जो आने वाले दिनों में वह 12 लाख, 13 लाख करोड़ की हो जाएगी | अगर उसके शेयर की कीमत आला कि और जाए तो वह 10 लाख करोड़ की सांझी हो सकती है तो यहां पर महत्वपूर्ण है कंपनी की शेयर कीमत से हम लोगों को या पता चला की कंपनी की शेयर कीमत से हम लोग कंपनी की मार्केट कैप्टिलाइजेशन को जज नहीं कर सकते| कंपनी का आकार या बाज़ार कैप्टिज़ेशन में काफी बड़ा है, तो कॉमनी के शेयर की कीमत में लगातार बदलाव रहता है डेली बेसिस पे, तो अगर हमलोग फॉर्मूला देखें कि हमें करें शेयर की कीमत एक वेरिएबल के तरह मिल रही है| तो उसके प्रभाव मार्केट कैप्टिलाइजेशन पे भी मिलते हैं तो मार्केट कैप्टिलाइजेशन कम-ज्यादा होता रहता है कंपनी “टीसीएस” के शेयर की कीमत के आधार पर आज जो कंपनी “टीसीएस” 11.72 लाख करोड़ रुपये है, जो आने वाले दिनों में वह 12 लाख, 13 लाख करोड़ की हो जाएगी | अगर उसके शेयर की कीमत आला कि और जाए तो वह 10 लाख करोड़ की सांझी हो सकती है तो यहां पर महत्वपूर्ण है कंपनी की शेयर कीमत से हम लोगों को या पता चला की कंपनी की शेयर कीमत से हम लोग कंपनी की मार्केट कैप्टिलाइजेशन को जज नहीं कर सकते| तो अगर हमलोग फॉर्मूला देखें कि हमें शेयर की कीमत एक वेरिएबल के तरह मिल रही है तो उसके प्रभाव मार्केट कैप्टिलाइजेशन पे भी मिलते हैं तो मार्केट कैप्टिलाइजेशन कम-ज्यादा होता रहता है कंपनी “टीसीएस” के शेयर की कीमत के आधार पर आज जो कंपनी “टीसीएस” 11.72 लाख करोड़ रुपये है, जो आने वाले दिनों में वह 12 लाख, 13 लाख करोड़ की हो जाएगी | अगर उसके शेयर की कीमत आला कि और जाए तो वह 10 लाख करोड़ की सांझी हो सकती है तो यहां पर महत्वपूर्ण है कंपनी की शेयर कीमत से हम लोगों को या पता चला की कंपनी की शेयर कीमत से हम लोग कंपनी की मार्केट कैप्टिलाइजेशन को जज नहीं कर सकते| तो अगर हमलोग फॉर्मूला देखें कि हमें शेयर की कीमत एक वेरिएबल के तरह मिल रही है तो उसके प्रभाव मार्केट कैप्टिलाइजेशन पे भी मिलते हैं तो मार्केट कैप्टिलाइजेशन कम-ज्यादा होता रहता है कंपनी “टीसीएस” के शेयर की कीमत के आधार पर आज जो कंपनी “टीसीएस” 11.72 लाख करोड़ रुपये है, जो आने वाले दिनों में वह 12 लाख, 13 लाख करोड़ की हो जाएगी | अगर उसके शेयर की कीमत आला कि और जाए तो वह 10 लाख करोड़ की सांझी हो सकती है तो यहां पर महत्वपूर्ण है कंपनी की शेयर कीमत से हम लोगों को या पता चला की कंपनी की शेयर कीमत से हम लोग कंपनी की मार्केट कैप्टिलाइजेशन को जज नहीं कर सकते| 72 लाख करोड़ रुपये है आने वाले दिनों में वह 12 लाख, 13 लाख करोड़ की हो जाएगी | अगर उसके शेयर की कीमत आला कि और जाए तो वह 10 लाख करोड़ की सांझी हो सकती है तो यहां पर महत्वपूर्ण है कंपनी की शेयर कीमत से हम लोगों को या पता चला की कंपनी की शेयर कीमत से हम लोग कंपनी की मार्केट कैप्टिलाइजेशन को जज नहीं कर सकते| 72 लाख करोड़ रुपये है आने वाले दिनों में वह 12 लाख, 13 लाख करोड़ की हो जाएगी | अगर उसके शेयर की कीमत आला कि और जाए तो वह 10 लाख करोड़ की सांझी हो सकती है तो यहां पर महत्वपूर्ण है कंपनी की शेयर कीमत से हम लोगों को या पता चला की कंपनी की शेयर कीमत से हम लोग कंपनी की मार्केट कैप्टिलाइजेशन को जज नहीं कर सकते|


Spread the love

Leave a Comment